World Senior Citizen's Day- 21 August

Updated: Aug 21, 2021

“A society that does not value its older people denies its roots and can dangers its future”

~NELSON MANDELA


World Senior Citizen Day is celebrated on 21 August every year. It was first announced on 14 December 1990 by the General Assembly of the United Nations. The day is known to raise awareness of factors and issues that affect older adults, such as the decline of age and the study of problems affecting their lives, elder abuse. It is also a day to recognize and acknowledge the contribution of older people in the society.

The main objective of World Senior Citizen's Day is to raise awareness of the condition of older people and support them in the aging process. The day is also recognized for the well-being of the elderly and is lauded for their achievements and their participation in society and for promoting skills and knowledge.


INDIA SENIOR CITIZEN’S

In India, parents are given the status of a God. The new day begins with touching the feet of parents and taking blessings, but now people have forgotten all culture and values ​​in a fast and modern life. Parents sacrifice their whole lives to make a good living for the children, but in the 21st century, the children have left them in an 'old age home', and some of them, due to their loneliness, seek safety, freedom and companionship prefers to stay in the old age home instead of own home.

According to the Social Justice Department's Orphanage Control Board, the total number of residents of old age homes increased from 18,057 to 26,728 in 2017-2018. This shows that Indian parents are becoming lonely, in the race for success, children have forgotten the selfless sacrifices of parents, which they had made earlier for the success of children.

In our society, the practice of single family has started, which is more in urban areas, after marriage people prefer to be alone. In these family’s children do not get the love of grandparents. If both parents are working, then they leave their children in Day care '-unknown place at a young and golden age. When the child needs proper care. Neurological research suggests that early years play an important role in children's brain development. Children's early experiences - they form with their parents and their first learning experiences - profoundly affect their future physical, cognitive, emotional and social development, even after knowing these things, in our society The day care organization is booming.

What is happening in our society? Parents are leaving their children in 'day care' unknown place and after maturing or getting jobs, children are leaving their parents in 'old age home'. How is the thread of our close relationship being broken with the modern and fast changing world?

I have often seen parents worried about what their children are learning. I think parents do not need to pay attention to what the children are learning. Pay more attention to what they are learning from you. Because the root of cultures starts at home. If you respect older people in front of children, then your children will also learn, because the children learn the value of relations in their childhood, the same makes the foundation of relation stronger or weaker.

We all need to restore cultures and values again. We can solve this problem to some extent - we can bring old age home people into our homes, so that working parents can leave their children with old experienced people instead of leaving in day care. In this way, children will also be able to get the love of grandparents, happy childhood, learn life experiences in better way. Which we can also call – it become quality time for children. Old people will again get happiness and hopes in life.

This year, we should take an initiative - on the occasion of 'World Senior Citizen's Day' we can make new provisions to bring old parents’ home from the ashram. This can eliminate both problems.

If your old parents are away from you, share the talk with him so that he does not feel lonely and use his life experiences and knowledge to make his life successful.

World Senior Citizen's Day is an important moment to remind the government's commitment to the welfare of older persons.

The constitution of India makes the welfare of the old person mandatory in the Constitution of India. Article 41, a direct principle of state policy, has dedicated that the state shall make effective provision for securing the right of public assistant in case of old age, within the limits of its economy capacity and development. There are other provisions, which direct the state to improve the quality of life of its citizens. The right to equality is guaranteed by the constitution because this right is a fundamental right that applies equally to the older person. Social security has been made the current responsibility of the central and state government.

The government has introduced several schemes for senior citizens such as day care centers, pensions, Medicare clinics, BPL benefits, ambulance services, old age homes in hospitals, counseling services, general concessions and subsidies etc.

At the grassroots level, these policies do not work properly, only a few people are able to take advantage of them, mostly poor old people are deprived of these provisions.

According to the 2011 census, there are about 104 million elderlies (aged 60 or older) among 53 million women and 51 million men in India. Most of the people live in the village and are left behind to take advantage due to lack of knowledge, complicated paper process and loose system. The government needs to simplify the process of these provisions, and make every provision available to the people without broker so that every elderly person can take advantage of these provisions.


विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस - 21 अगस्त


“एक समाज जो अपने पुराने लोगों को महत्व नहीं देता है वह अपनी जड़ों से इनकार करता है और अपने भविष्य को खतरे में डाल सकता है ” ~ नेल्सन मंडेला

प्रत्येक वर्ष 21 अगस्त को विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस मनाया जाता है। यह पहली बार 14 दिसंबर, 1990 को संयुक्त राष्ट्र की महासभा द्वारा घोषित किया गया था। यह दिन उन कारकों और मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए जाना जाता है जो वृद्ध वयस्कों को प्रभावित करते हैं, जैसे कि उम्र की गिरावट और उनके जीवन को प्रभावित करने वाली समस्याओं का अध्ययन, बड़े दुरुपयोग। यह समाज के वृद्ध लोगों के योगदान को पहचानने और स्वीकार करने का भी दिन है।

विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस का मुख्य उद्देश्य वृद्ध लोगों की स्थिति के बारे में जागरूकता बढ़ाना और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया में उनका समर्थन करना है। यह दिन बुजुर्गों की भलाई के लिए भी पहचाना जाता है और उनकी उपलब्धियों और समाज में उनकी भागीदारी और कौशल और ज्ञान को बढ़ावा देने के लिए उनकी सराहना की जाती है।

भारत के वरिष्ठ नागरिक

भारत में, माता-पिता को भगवान का दर्जा दिया जाता है। नया दिन माता-पिता के पैर छूने और आशीर्वाद लेने से शुरू होता है, लेकिन अब तेज और आधुनिक जीवन में लोग सभी संस्कृति और मूल्यों को भूल गए हैं। माता-पिता बच्चों का अच्छा जीवन बनाने के लिए पूरे जीवन का बलिदान कर देते हैं, लेकिन 21 वीं सदी में बच्चों ने उन्हें 'वृद्धाश्रम' में छोड़ दिया है, और उनमें से कुछ अकेलेपन के कारण वे सुरक्षा, स्वतंत्रता और साहचर्य की तलाश में घर की बजाय वर्धा आश्रम में रहना पसंद करते हैं।

सामाजिक न्याय विभाग के अनाथालय नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, वृद्धाश्रमों के निवासियों की कुल संख्या 2017-2018 में 18,057 से बढ़कर 26,728 हो गई। इससे पता चलता है कि भारतीय माता-पिता अकेलेपन का शिकार होते जा रहे है , सफलता की दौड़ में बच्चे माता-पिता के निस्वार्थ बलिदानों को भूल गए हैं, जो कि उनके द्वारा बच्चों की सफलता के लिए पहले किया गए थे ।

हमारे समाज में एकल परिवार का चलन सुरु हो गया है, जो की शहरी क्षेत्रों में ज्यादा है, शादी के बाद लोग अकेले रहना पसंद करते हैं। इन परिवारों में बच्चों को दादा-दादी का प्यार नहीं मिलता है, अगर दोनों माता-पिता काम कर रहे होते है तो , वो अपने बच्चों को छोटी और सुनहरी उम्र में ही Day care ’-unknown जगह पर छोड़ देते है। जब बच्चे को उचित देखभाल की आवश्यकता होती है। न्यूरोलॉजिकल रिसर्च से पता चलता है कि शुरुआती साल बच्चों के मस्तिष्क के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। बच्चों के शुरुआती अनुभव - वे अपने माता-पिता और उनके पहले सीखने के अनुभवों के साथ बनते हैं - उनके भविष्य के शारीरिक, संज्ञानात्मक, भावनात्मक और सामाजिक विकास को गहराई से प्रभावित करते हैं, इन चीजों को जानने के बाद भी, हमारे समाज में डे केयर संस्था तेजी से भड़ रही है।

हमारे समाज में यह क्या हो रहा है? माता-पिता अपने बच्चों को 'डे केयर' अज्ञात स्थान पर छोड़ रहे हैं और परिपक्व होने या नौकरी पाने के बाद बच्चे अपने माता-पिता को 'वृद्धाश्रम' में छोड़ रहे हैं। कैसे आधुनिक और तेज बदलती दुनिया के साथ हमारे करीबी रिस्तो की डोर टूटती जा रही है?

मैंने बहुत बार माता-पिता को इस बात को लेकर चिंतित देखा है, कि उनके बच्चे क्या सीख रहे हैं। मुझे लगता है कि माता-पिता को इस बात पर ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है कि बच्चे क्या सीख रहे हैं। इस बात पर जयादा ध्यान दें कि आवश्यकता है की वे आपसे क्या सीख रहे हैं ? क्योंकि संस्कृतियों की जड़ घर से शुरू होती है। यदि आप बच्चों के सामने बड़े लोगों का सम्मान करते हैं तो आपका बच्चें भी आपका सामान करेंगें, क्यूकि रिस्तो का मोल बच्चे बचपन में सीखते है वही से ही रिस्तो की बुनियाद मजबूत या कमजोर बनती है।

हम सभी को संस्कृतियों और मूल्यों को फिर से बहाल करने की आवश्यकता है। हम इस समस्या को कुछ हद तक हल कर सकते हैं - हम वृद्धावस्था के लोगों को अपने घरों में ला सकते हैं, ताकि कामकाजी माता-पिता अपने बच्चों को डे केयर में छोड़ने के बजाय पुराने अनुभवी लोगों के साथ छोड़ सकें। इस तरह, बच्चे दादा-दादी का प्यार पाने, खुशहाल बचपन, बेहतर तरीके से जीवन के अनुभव सीखने में भी सक्षम होंगे। जिसे हम बच्चो के लिए ‘गुणवत्ता का समय’ भी बोल सकते है और बूढ़े लोगों को फिर से जीवन में खुशी और उम्मीदें मिल सकेंगी।

इस वर्ष हम एक पहल करे - ' विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस ’ के अवसर बूढ़े माता-पिता को आश्रम से घर पर लाने के लिए नए प्रावधानो को बना सकते है। इससे दोनों ही समस्याएं ख़त्म हो सकती है।

यदि आपके बूढ़े माता-पिता आपसे दूर हैं, तो उसके साथ बात साझा करें ताकि वह अकेला महसूस न करें और अपने जीवन के अनुभवों और ज्ञान का उपयोग अपने जीवन को सफल बनाने के लिए करें।

विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस वृद्ध व्यक्तियों के कल्याण के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को याद दिलाने का एक महत्वपूर्ण क्षण है।

भारत के संविधान में वृद्ध व्यक्ति के कल्याण को भारत के संविधान में अनिवार्य किया गया है। अनुच्छेद 41, राज्य नीति का एक प्रत्यक्ष सिद्धांत, ने समर्पित किया है कि राज्य अपनी अर्थव्यवस्था क्षमता और विकास की सीमा के भीतर, बुढ़ापे के मामले में सार्वजनिक सहायक के अधिकार को हासिल करने के लिए प्रभावी प्रावधान करेगा। अन्य प्रावधान भी हैं, जो राज्य को अपने नागरिकों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने का निर्देश देते हैं। संविधान द्वारा समानता के अधिकार की गारंटी दी गई है क्योंकि यह अधिकार एक मौलिक अधिकार है जो वृद्ध व्यक्ति के लिए समान रूप से लागू होता है। सामाजिक सुरक्षा को केंद्र और राज्य सरकार की वर्तमान जिम्मेदारी बना दिया गया है।

सरकार ने वरिष्ठ नागरिक के लिए कई योजनाएं शुरू कि है जैसे- डे केयर सेंटर, पेंशन, मेडिकेयर क्लीनिक, बीपीएल लाभ, एम्बुलेंस सेवा, अस्पतालों में वृद्धाश्रम होम, काउंसलिंग सेवा, आम छूट रियायत और सब्सिडी आदि। जमीनी स्तर पर यह नीतियां पूरी तरह काम नहीं कर पाती केवल कुछ ही लोग इनका मुनाफा ले पाते हैं अधिकतर गरीब वृद्ध लोग इन प्रावधानों से वंचित रह जाते हैं।

2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में 53 मिलियन महिलाओं और 51 मिलियन पुरुषों के बीच लगभग 104 मिलियन बुजुर्ग (60 वर्ष या अधिक आयु वाले) हैं। अधिकांश लोग गाँव में रहते हैं और ज्ञान की कमी, जटिल कागजी प्रक्रिया और ढीली व्यवस्था के कारण लाभ उठाने में पीछे रह जाते हैं। सरकार को इन प्रावधानों की प्रक्रिया को आसान बनाने की आवश्यकता है, और बिना दलाल के लोगों को हर प्रावधान उपलब्ध कराना चाहिए ताकि हर बुजुर्ग व्यक्ति इन प्रावधानों का लाभ उठा सके।



Also read

Click to read more articles HOME PAGE

Do you want to publish article? Contact with us - nationenlighten@gmail.com | nenlighten@gmail.com

151 views0 comments