यूनेस्को इंडिया-अफ्रीका हैकॉथन कल से, भारत करेगा मेजबानी

न्यू दिल्ली। ग्रेटर नोएडा स्थित गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में कल से भारत की मेजबानी में यूनेस्को इंडिया-अफ्रीका हैकॉथन का आयोजन होगा।

22 से 25 नवंबर तक चलने वाले हैकॉथन का उद्घाटन यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे। अनूठा यूनेस्को इंडिया-अफ्रीका हैकॉथन 36 घंटे नॉन-स्टॉप चलेगा। इसमें कई इवेंट होंगे, जो 23 नवंबर की सुबह आठ बजे से 24 की रात आठ बजे तक चलेगा। शिक्षा व विदेश मंत्रालय यूनेस्को और एआईसीटीई संयुक्त रूप से यूनेस्को इंडिया-अफ्रीका हैकथॉन 2022 का आयोजन कर रहा है।

यूनेस्को भारत-अफ्रीका हैकथॉन का उद्देश्य अफ्रीकी और भारत को शिक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी में सहयोग के माध्यम से अपने आर्थिक विकास को आगे बढ़ाने के लिए अद्वितीय अवसर प्रदान करना है। विचारशील नेतृत्व का आदान-प्रदान, विभिन्न कुशल व्यक्तियों को शामिल करने वाली परियोजनाओं पर काम और सहयोग से आपस में जुड़ते हैं। एक-दूसरे की ताकत से सीखते हैं। एक-दूसरे की संस्कृति, मूल्यों और कार्य नैतिकता से भी परिचित होते हैं।

सभी के लिए शिक्षा’ के तहत पांच उप विषयों पर होगा मंथन

केंद्रीय विषय ‘सभी के लिए शिक्षा’ के तहत पांच उप विषय चुने गए हैं। इनमें शिक्षा, नवीकरणीय ऊर्जा/स्थिरता, पेयजल और स्वच्छता, कृषि और स्वास्थ्य एवं स्वच्छता शामिल है। इन विषयों पर मंथन होगा। हैकॉथन के दौरान ऊर्जा के क्षेत्र में दुनिया में बदलाव लाने के लिए टिकाऊ विकास लक्ष्यों के अनुरूप नवोन्मेषी विचार अपनाने और उनका उपयोग करने पर चर्चा होगी। पेयजल व स्वच्छता के विषय में इन देशों के सहभागी प्रदूषण कम करते हुए जल की गुणवत्ता बेहतर बनाने, हानिकारक रासायनिक पदार्थों व वस्तुओं को फेंकना कम करने के बारे में रास्ते तलाशें जाएंगे। इसके अलावा कृषि क्षेत्र में सतत खाद्य उत्पादन प्रणाली सुनिश्चित करने व उत्पादकता बढ़ाने तथा पर्याप्त साफ-सफाई के जरिये सभी के लिए बेहतर स्वास्थ्य सुनिश्चित करने पर भी चर्चा होगी।

22 अफ्रीकी देशों के 603 प्रतिभागी होंगे हैकॉथन में शामिल

हैकॉथन 2022 में 22 अफ्रीकी देशों के 603 प्रतिभागी शामिल होंगे। इनमें 160 लड़कियां और 443 लड़के हैं। छात्रों के दल उन समस्याओं का समाधान निकालेंगे, जो इन देशों में आमतौर पर आती हैं। यूनेस्को भारत और उसके अफ्रीकी भागीदारों के छात्रों, शिक्षकों, शिक्षकों और अनुसंधान समुदाय को एक साथ लाएगा ताकि वे अपने देशों के सामने आने वाली आम चुनौतियों का समाधान प्रदान कर सकें। सांस्कृतिक समामेलन के लिए एक सूत्रधार के रूप में काम कर सकें।

सौ टीमें 20 समस्या विवरणों के समाधान पर करेगी काम

मेजबान देश भारत इन पांच क्षेत्रों में समस्याओं का समाधान प्रदान करने के लिए काम करेगा। 100 टीमें इसके लिए होंगी। प्रत्येक टीम में अफ्रीकी और भारतीय प्रतिभागियों का मिश्रण है। कुल 20 समस्या विवरणों के समाधान पर टीम काम करेगी। हम स्मार्टफोन इमेज आधारित मृदा परीक्षण सुविधा के माध्यम से मृदा स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त करना, विशेष रूप से सक्षम बच्चों के लिए सीखने के परिणामों में सुधार के लिए अभिनव तरीके, इलेक्ट्रिक वाहन अपनाने के लिए निर्णय समर्थन उपकरण, एमआरआई इमेज में ट्यूमर की पहचान के लिए इमेज प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर जैसे टॉपिक पर समाधान मिल सकता है।

इन अफ्रीकी देशों के छात्र होंगे शामिल

इस हैकॉथन में जो अफ्रीकी देश शामिल होंगे उनमें बोत्सवाना, कैमरून, इस्वातिनी, इथियोपिया, इक्वेटोरियल गिनी, गाम्बिया, घाना, गिनी बिसाऊ, केन्या, लेसोथो, मलावी, माली, मॉरीशस, मोरक्को, मोजाम्बिक, नामीबिया, नाइजर, सिएरा-लियोन, तंजानिया, टोगो, युगांडा और जिम्बाब्वे समेत अन्य हैं। इन देशों के छात्र हैकॉथन में शामिल विषयों पर मंथन करेंगे। समस्याओं का समाधान देंगे।


Also Read


Click to read more articles HOME PAGE Do you want to publish article, News, Poem, movie review, Opinion, etc. Contact us: nationenlighten@gmail.com | nenlighten@gmail.com

503 views0 comments