top of page

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

Updated: Aug 5, 2022

देखना


उस तरह मत देखना किसी को

जिस तरह

नदी को देखता है व्यापारी

हरे जंगलों को देखते हैं विकास के नायक

उनकी तरह भी नहीं

जिनकी निगाह में स्त्री केवल देह है


नदी जानती है

व्यापारी देखता है नदी का पानी

उस पानी की कीमत

नदी को सुखा देने के बाद उस ज़मीन का मोल


हरे जंगल जानते हैं

विकास के नायक

पेड़ों को रौंदकर

खड़ा कर देंगे कंक्रीट का जंगल


स्त्रियां जानती हैं

स्त्री को देह की नज़र से देखने वाले

कामुक और कुंठित ही नहीं कार्पोरेट भी होते हैं

कार्पोरेट स्त्री देह को विज्ञापन की नज़र से देखता है

कार्पोरेट की नज़र में उसकी देह

विज्ञापन की कसौटी है

मांसलता की वस्तु है सौंदर्य की नहीं


नदी चाहती है

जो आँखें उसकी ओर उठे

वो देख पाए तो देखे

उसका बहाव और सौंदर्य

अतिक्रमण और अवहेलना

और उसकी ठंडी पड़ी धार


स्त्री चाहती है,

उसे देखना ही है तो देखा जाय

उसके हिम्मत और जुनून को

उसके श्रम सौंदर्य को

वो चाहती है, उसकी आँखों में देखा जाय

जिसमें उसकी राग के हर रंग दर्ज़ हैं


सच तो यह है कि हर कोई चाहता है

उसे देखा जाय मानवीय नजर से

जैसे, मानव समाज को कभी देखा था

बुद्ध, मार्क्स, गांधी, टैगोर और अंबेडकर ने

मदर टेरेसा, ज्योतिबा राव फूले ने

जैसे देखते रहें हैं

गोर्की, प्रेमचंद और टॉलस्टाय


बच्ची और मां

_____

आठ साल की बच्ची

चालीस की मां

ठंड का मौसम

रजाई में दुबकी बच्ची

निहार रही थी

झाड़ू लगाती

बर्तन धोती

खाना बनाती

टिफिन पैक करती

पापा के कपड़े इस्त्री करती

उनके जूते पालिश करती

मां की हलचल

वो देख रही थी

इन सबके बीच मां खो गई थी

शून्य में या न जाने कहां

अचानक मां के हाथों

टूट जाता है एक कप

नौकरी वाले पापा जाग जाते

मां को देते हैं सैकड़ों गालियां

मां कुछ नहीं बोलती

आंसू बहाती

बच्ची को निहारती

तभी बच्ची पूछ लेती

मां!

क्या मुझे भी जीना होगा इसी तरह

सबकी चिंता, उस पर भी गालियां

बच्ची की आंखों से आसूं ढुलक आता है

लेकिन मां तो मां

बच्ची की पोछती है आंसू

फ़िर तुरंत तैयार होती

आख़िर उसे भी तो ऑफिस जाना था!


सृष्टि की संचालिका


सपाट सड़क पर चलते हुए

मीलों केवल रेगिस्तान देखा

न पानी, न पेड़, न बस्तियां देखीं

देखा सरपट चली आ रही एक स्त्री

सिर पर पानी का घड़ा लादे

जीवन बचाने की मुहिम में शामिल थी

यही वही जीवनदात्री स्त्री थी

जिसे इतिहास में

सृष्टि की संचालिका कहा जाना था

उसे मात्र एक पति की पत्नी कहा गया

मनु की श्रद्धा, राम की सीता, बुद्ध की यशोधरा

पत्नी की संज्ञा से विहीन स्त्रियां

उसी इतिहास में सृष्टि की संचालिका वही स्त्रियां

कहीं गईं वेश्या, कुलटा और चरित्रहीन



~ डॉ. धीरेंद्र प्रताप सिंह

युवा अध्येता एवं रचनाकार


*यूजीसी नेट-जेआरएफ की फेलोशिप प्राप्त

*ICSSR की पोस्ट डॉक्टोरल फेलोशिप प्राप्त

*एम.फिल, डी.फिल (पी-एच.डी)

*एनबीटी से तीन अनूदित पुस्तक प्रकाशित

*दो संपादित पुस्तक प्रकाशित

*आकाशवाणी, प्रयागराज से वार्ता प्रसारित

*विश्व हिंदी संस्थान, कनाडा सहित कई संस्थाओं से सम्मानित

*युवा सृजन संवाद मंच का संचालन

*धवल उपनाम से कविता लेखन


Also Read



Click to read more articles


HOME PAGE


Do you want to publish article, News, Poem, Opinion, etc. ?

Contact us-

nationenlighten@gmail.com | nenlighten@gmail.com

784 views0 comments
Post: Blog2 Post
bottom of page