Updated: Aug 5

जिस तरह जनता के विरोध को एक तरह की साजिश बताया जा रहा है वह भारत में लोकतंत्र के भविष्य पर जो खतरा मंडरा रहा है, उसको दिखाता है। मोदी सरकार एक अलोकतांत्रिक तरीके से देश को देश को मैं लोकतंत्र बनाए रखना चाहती है।

सरकार 2014 से हर उस व्यक्ति को देशद्रोही बता रही है जो मोदी सरकार का विरोध कर रहा है उदाहरण के तौर पर जब 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक कराई गई फिर चाहे या वह 2019 का CAA & NRC का विरोध आंदोलन हो या वर्तमान 2020 में हाथरस रेप कांड, विरोध और सवाल नहीं होंगे तो लोकतंत्र में उत्तरदायित्व की कमी हो जाएगी। सत्ताधारी गलत काम करें या सही करें उसका सीधा प्रभाव जनता पर पड़ता है। जब जनता विरोध करती है तो उस जनता को देशद्रोही बता दिया जाता है भारत में जनता के हर विरोध को गलत साबित करने के लिए तीन प्रमुख बातें जो मोदी सरकार की तरफ से हमेशा कही जाती है, वह कुछ इस प्रकार है।

प्रथम - जनता में एक भ्रम पैदा किया जा रहा है। द्वितीय - सरकार के खिलाफ साजिश की जा रही है। तृतीय - विदेशों से मदद मिल रही है। मोदी सरकार विश्व गुरु भारत की जनता को एक तरह का अज्ञानीयो का समूह मानती हैै।


हिमांशु साहनी ( सामाजिक कार्यकर्ता )

Also Read


Click to read more articles HOME PAGE Do you want to publish article, News, Poem, Opinion, etc.? Contact us- nationenlighten@gmail.com | nenlighten@gmail.com

1,262 views0 comments